Search
Close this search box.

क्‍या होती है विवाह रेखा और अपनी हथेली से जाने कब होगा विवाह?
Know when you will get married?

कहां देखें विवाह रेखा

अपने विवाह और विवाह होने के बाद का जीवन कैसा गुजरेगा इसको लेकर हर किसी में उत्सुकता रहती है। समुद्रशास्त्र के मुताबिक, हमारी हथेली की रेखाओं के माध्यम से विवाह और दांपत्य जीवन से संबंधित काफी खास बातें जान सकते हैं।

कनिष्ठिका (सबसे छोटी उंगली) उंगली के नीचे, ह्रदय रेखा के ऊपर तथा बुध पर्वत पर हथेली के बाहरी ओर से आनेवाली रेखा विवाह रेखा कहलाती है यानी इस रेखा का संबंध आपकी शादीशुदा या प्रेम संबंधों से हो सकता है। तो आइए जानते हैं कि हाथ की विवाह रेखा के माध्यम से हम अपने शादीशुदा जीवन के बारे में क्या क्या जान सकते हैं।

कटी-फटी विवाह रेखा- विवाह में हो सकती है देरी ?

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा को कोई अन्य रेखा काट रही है तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि आपकी शादी देर से हो सकती है। साथ ही विवाह में अनेक प्रकार की बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि बुध पर्वत से आने वाली कोई रेखा विवाह रेखा को काट दे तो व्यक्ति का दाम्पत्य जीवन में अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

astroarunpandit-best-astrologer-top-numerology-astrology-palmistry-courses-kundli-in-pur-lucknow-uttar-pradesh-india-rashi-rashifal

दोनो हाथ में विवाह रेखा हो तो -

यदि किसी पुरुष के बाएं हाथ में दो विवाह रेखा है और दाएं हाथ में एक विवाह रेखा है तो समुद्रशास्त्र कहता है कि ऐसे लोगों की पत्नी सर्वगुण सम्पन्न होती है तथा इन लोगों की पत्नी पति का बहुत अधिक ध्यान रखती है और अधिक प्रेम करने वाली होती है। दोनों हाथों में विवाह रेखा एक जैसा हो तो ऐसे लोगों का वैवाहिक जीवन भी सुखी व्यतीत होता है। ऐसे लोगों का अपने जीवनसाथी से सामंजस्य बना रहता है।

जीवनसाथी से करते हैं अधिक प्रेम

यदि किसी व्यक्ति के दाएं हाथ में दो विवाह रेखा है और बाएं हाथ में एक विवाह रेखा है तो हस्तरेखा विज्ञान के हिसाब से ऐसे लोगों की पत्नी अपने पति का अधिक ध्यान रखने वाली नहीं होती है। इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा के आखिर में त्रिशूल के समान चिह्न दिखाई दे तो ऐसे लोग अपने जीवन साथी से बहुत अधिक प्रेम करते हैं।

किस उम्र में होगी शादी

यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा ह्रदय रेखा से बहुत कम दूरी पर हो तो यह व्यक्ति के 20 साल से पहले ही शादी होने का संकेत देती है और यदि विवाह रेखा छोटी उंगली तथा ह्रदय रेखा के मध्य में हो तो 22 वर्ष अथवा इसके बाद प्रणय सम्बन्ध होने की ओर इशारा करती है।

पार्टनर का स्वास्थ्य हो सकता है खराब

कनिष्ठिका उंगली के नीचे वाले भाग को बुध पर्वत कहा जाता है। विवाह रेखा एक या एक से अधिक भी हो सकती है। यदि किसी महिला के हाथ में विवाह रेखा की शुरुआत में कोई द्वीप का निशान हो तो उस व्यक्ति कि शादी किसी धोखे से होने की आशंका रहती है। साथ ही, यह द्वीप इस बात की ओर भी इशारा करता है कि आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है।

शादी को लेकर हो सकते हैं दुखी

यदि किसी व्यक्ति के हाथ में विवाह रेखा हृदय रेखा को काटते हुए नीचे की ओर चली जाए तो ज्योतिषविद्या के मुताबिक यह अच्छा संकेत नहीं होता है। ऐसी रेखा आपके जीवन साथी के लिए खतरे की घंटी हो सकती है। साथ ही यह भी हो सकता है कि व्यक्ति अपने विवाह को लेकर हमेशा दुखी या परेशान रह सकता है।

यदि हों एक से अधिक विवाह रेखा

यदि किसी जातक की हथेली में विवाह रेखा सूर्य पर्वत की ओर जा रही है या वहां तक पहुंच चुकी है तो यह उस बात का संकेत करता है कि उसका जीवन साथी अवश्य ही समृद्ध और सम्पन्न परिवार से होगा। यदि आपकी हथेली में एक से अधिक विवाह रेखाएं है तो व आपके सुखद प्रणय संबंध की ओर इशारा करती हैं।

कैसे देखें कि आपका प्रेम विवाह होगा ?

हाथ की रेखाओं के माध्यम से व्यक्ति के जीवन का खाका तैयार किया जा सकता है। हस्त रेखा विज्ञान में इस बात का विस्तृत रूप से उल्लेख मिलता है कि हथेली पर मौजूद आड़ी तिरछी रेखाएं इंसान के व्यक्तित्व से जुड़े कई राज खोलती हैं। इन रेखाओं से व्यक्ति की आयु, स्वभाव और भविष्य के बारे में जान सकते हैं। इसी तरह एक रेखा होती है, जो व्यक्ति के विवाह जीवन के बारे में बताती है। इस रेखा को प्रेम रेखा या विवाह रेखा कहते हैं। तो चलिए जानते हैं प्रेम रेखा की पहचान किस तरह से की जाती है….

हथेली में यह निशान- हो सकता है आपका प्रेम विवाह

विवाह हर मनुष्‍य के जीवन का सबसे अहम हिस्‍सा है। लड़का हो या लड़की हर एक के मन में यह सवाल जरूर उठता है कि उसका प्रेम विवाह होगा या फिर उसके माता-पिता उसका विवाह तय करेंगे। हस्‍तरेखा विज्ञान में भी इसके बारे में विस्‍तार से बताया गया है। हाथ में कुछ ऐसी रेखाओं और ऐसे चिह्नों के बारे में बताया गया है कि जो यह बताते हैं कि व्‍यक्ति का प्रेम विवाह होने की संभावना अध‍िक है। आइए कौन-कौन सी हैं ये रेखाएं और निशान जो प्रेम विवाह की प्रबलता के बारे में बताते हैं…

1. हृदय रेखा बनाए V निशान

हथेली पर उंगलियों की तरफ सबसे आखिर में हृदय रेखा V का निशान बनाए तो यह सुखी और सफल लव मैरिज का सं‍केत है। V के निशान को हिंदू हस्‍तरेखा में भगवान विष्‍णु का भी प्रतीह चिह्न माना जाता है। यह दर्शाता है कि जातक प्रेम और रिलेशनशिप के मामलों में सफलता प्राप्‍त करेगा। ऐसे लोग हमेशा उस व्‍यक्ति के साथ विवाह करते हैं जिनसे इन्‍हें उम्र भर प्‍यार और Suport की उम्‍मीद होती है। यदि भाग्‍य रेखा और हृदय रेखा आपस में मिलकर V का निशान बनाएं तो यह भी सुखी वैवाहिक जीवन को दर्शाता है।

2. इस स्‍थान पर हो क्रॉस का चिह्न

यदि व्‍यक्ति के हाथ में गुरु पर्वत पर क्रॉस का निशान हो तो यह सफल प्रेम विवाह का स्‍पष्‍ट संकेत माना जाता है। ऐसे जातकों को जीवनसाथी ऐसा मिलता है कि जो उन्‍हें भली प्रकार से समझ सके और उनका विशेष ध्‍यान रख सके।

3. चंद्र पर्वत पर इस प्रकार मिले कोई रेखा

यदि चंद्र पर्वत से कोई विशेष रेखा निकलकर भाग्‍य रेखा से आकर मिल जाए तो इसे भी लव मैरिज का ही विशेष संकेत माना जाता है। चूंकि यह रेखा चंद्र पर्वत की ओर से आ रही है इसलिए यह जातक के जीवन में भरपूर रोमांस को भी दर्शाती है।

यदि इस प्रकार के संयोग के साथ गुरु पर्वत पर क्रॉस का भी निशान हो तो इसे सोने पर सुहागा माना जाएगा। हालांकि चंद्र पर्वत से निकलने वाली यह रेखा भाग्‍य रेखा को काटनी नहीं चाहिए। अगर ऐसा होता है तो यह लव मैरिज के लिए खराब संकेत माना जाता है।

4. सूर्य रेखा का इस प्रकार से जुड़ना

कई बार ऐसा देखने में आता है कि हृदय रेखा से कुछ छोटी-छोटी रेखाएं निकलकर सूर्य रेखा से जाकर मिल जाती हैं। यह संयोग व्‍यक्ति के जीवन में प्रेम विवाह की मौजूदगी को दर्शाता है। ऐसे लोगों के जीवन में पार्टनर का सपॉर्ट और नाम उन्‍हें भी प्रसिद्धि दिलवाता है।

5. शुक्र पर्वत से कोई रेखा उठे

यदि शुक्र पर्वत से कोई रेखा निकलकर भाग्‍य रेखा के साथ मिले तो यह सुखी और सफल लव मैरिज की ओर इशारा करता है। ऐसे लोगों के जीवन में प्‍यार की विशेष अहमियत होती है।

Find Your Perfect Match With Couple Match Making Kundali!

This Is Not Just About Matching The Horoscopes.
It Is About Getting A Deep Insight Into The Inner Self Of Both Partners. It Is About Getting A Deep Insight Into The Inner Self Of Both Partners.

  • Lal Kitab Remedies
  • Available in 8+ Indian Languages
  • Gem Rudraksha Recommendation

About The Author -

Astro Arun Pandit is the best astrologer in India in the field of Astrology, Numerology & Palmistry. He has been helping people solve their life problems related to government jobs, health, marriage, love, career, and business for 48+ years.

वट सावित्री व्रत 2024

वट सावित्री व्रत: महत्व, पूजा विधि, और पौराणिक कथा इस साल वट सावित्री व्रत 6 जून, गुरुवार को मनाया जाएगा। इसे सावित्री अमावस्या या वट पूर्णिमा भी कहा जाता है।

Read More »

राहु गोचर 2024: राहु ने बदली चाल, इन राशियों को अगले 60 दिन रहना होगा सावधान !

राहु गोचर 2024| Rahu Gochar 2024: ज्योतिष में ग्रहों का महत्त्व जगजाहिर है। ज्योतिष में सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, देवगुरु बृहस्पति, शुक्र व शनि को प्रत्यक्ष जबकि राहु-केतु छाया या

Read More »

गुरु चांडाल योग कितना खतरनाक ? जानें क्या है इस दोष से बचने के उपाय !

गुरु चांडाल योग ज्योतिष में एक विवादास्पद अवधारणा है। इसे अक्सर अशुभ माना जाता है। हालांकि, ज्योतिष सिर्फ भविष्यवाणी नहीं है, बल्कि ग्रहों की ऊर्जा को समझने का एक उपकरण

Read More »

Know How June Born People are | Personalities

अपनी Birthday Report से जानें क्‍या कहती है आपकी जन्‍म तारीख? Know How Are June Born People| जानिये कैसे होते हैं जून में जन्‍में लोग? | June 1st to June

Read More »

अक्षय तृतीया 2024

अक्षय तृतीया 2024: हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का पर्व बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है।

Read More »