makar sankranti til gud ka mehetav puja vidhi astro arun ji

k‍yon khaaya jaata hai makar sankranti mein til-gud aur k‍ya hai makar sankranti mein daan ka mahat‍va !

k‍yon khaaya jaata hai makar sankranti mein til-gud aur k‍ya hai makar sankranti mein daan ka mahat‍va !

मकर संक्रांति 2023 / Makar Sankranti 2023

मकर संक्रांति 2023 / Makar Sankranti 2023

भारतीय हिंदू धार्मिक परम्परा में मकर संक्रांति का विशेष महत्व होता है, क्योंकि, धर्म ग्रंथों के मुताबिक, इस दिन सूर्य देव धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आते हैं। यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। पंचांग के मुताबिक, साल 2023 में मकर संक्रांति 15 जनवरी दिन रविवार को मनाई जाएगी। 

Makar Sankranti has special significance in the Indian Hindu religious tradition, because, according to religious texts, on this day the Sun God leaves Sagittarius and enters Capricorn, and enters Uttarayan. It is considered a symbol of positive energy. According to the Panchang, in the year 2023, Makar Sankranti will be celebrated on Sunday, January 15. 

भारतीय हिंदू धार्मिक परम्परा में मकर संक्रांति का विशेष महत्व होता है, क्योंकि, धर्म ग्रंथों के मुताबिक, इस दिन सूर्य देव धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आते हैं। यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। पंचांग के मुताबिक, साल 2023 में मकर संक्रांति 15 जनवरी दिन रविवार को मनाई जाएगी। 

Makar Sankranti has special significance in the Indian Hindu religious tradition, because, according to religious texts, on this day the Sun God leaves Sagittarius and enters Capricorn, and enters Uttarayan. It is considered a symbol of positive energy. According to the Panchang, in the year 2023, Makar Sankranti will be celebrated on Sunday, January 15. 

Makar Sankranti 2023 Muhurt

Makar Sankranti 2023 Muhurt

Makar Sankranti 2023 Date: January 15, 2022 (Sunday)
Punya Kaal Muhurta: 07:15:13 to 12:30:00
Duration: 5 hours 14 minutes
Mahapunya Kaal Muhurta: 07:15:13 to 09: Till 15:13
Duration: 2 hours 0 minutes
Sankranti moment: January 14 at 20:21:45 z

मकर संक्रांति 2023 तिथि : 15 जनवरी, 2022 (रविवार)
पुण्य काल मुहूर्त : 07:15:13 से 12:30:00 तक अवधि : 5 घंटे 14 मिनट महापुण्य काल मुहूर्त : 07:15:13 से 09:15:13 तक
अवधि : 2 घंटे 0 मिनट
संक्रांति पल : 14 जनवरी को 20:21:45

Makar Sankranti 2023 Date: January 15, 2022 (Sunday)
Punya Kaal Muhurta: 07:15:13 to 12:30:00
Duration: 5 hours 14 minutes
Mahapunya Kaal Muhurta: 07:15:13 to 09: Till 15:13
Duration: 2 hours 0 minutes
Sankranti moment: January
14 at 20:21:45 z

मकर संक्रांति 2023 तिथि : 15 जनवरी, 2022 (रविवार)
पुण्य काल मुहूर्त : 07:15:13 से 12:30:00 तक अवधि : 5 घंटे 14 मिनट महापुण्य काल मुहूर्त : 07:15:13 से 09:15:13 तक
अवधि : 2 घंटे 0 मिनट
संक्रांति पल : 14 जनवरी को 20:21:45

संक्रांति से जुड़ी पौराणिक कथा /Mythology related to Sankranti

पौराणिक कथा के अनुसार, मकर संक्रांति के दिन भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का संहार कर उनके सिरों को काटकर मंदरा पर्वत पर फेंका था। लिहाजा भगवान की जीत को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाने लगा। मकर संक्रांति के दिन से ही ऋतु परिवर्तन होने लगता है। इस दिन से शरद ऋतु का प्रभाव कम होने लगता है और बसंत का आगमन हो जाता है। इसके बाद दिन लंबे और रात छोटी होने लगती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्यदेव अपने पुत्र शनिदेव के घर जाते हैं। पिता माना जाता है इससे पुत्र के बीच प्रेम बढ़ता है। ऐसे में भगवान सूर्य और शनि की अराधना शुभ फलदायी होती है। मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन इनमें से किसी एक मंत्र के जाप से भक्तों में तेज और ओज की वृद्धि होती है। उन पर भगवान सूर्य की कृपा होती है और सूर्य देव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। 


  • ॐ सूर्याय नम:
  • ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः
  • ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:
MAKKAR-SANKRANTI-2023-KITE-ASTRO-ARUN-PANDIT-BEST-ASTROLOGER-IN-INDIA

According to the legend, on the day of Makar Sankranti, Lord Vishnu killed the demons on the earth and cut off their heads. was thrown on the mountain. Hence the victory of God was celebrated as Makar Sankranti. From the day of Makar Sankranti, the season changes. From this day the effect of autumn starts reducing and spring arrives. After this, the days start getting longer and the nights shorter. According to religious beliefs, on the day of Makar Sankranti, Suryadev goes to the house of his son Shanidev. It is believed that the love between them increases. In such a situation, worshiping Lord Surya and Shani is auspicious and fruitful. It is believed that by chanting one of these mantras on the day of Makar Sankranti, the devotees get increased energy and vigor. They are blessed by the Sun God and get the blessings of the Sun God. 

  • Om Surya Namah:
  • Om Hree Hree Suryaye Namah
  • Om Oh Sun, Sahastransho Tejo Rashe Jagatpate, Compassionate Devotee, Grihanarghay Diwakar:

Makar Sankranti Puja Method / मकर संक्रांति पूजा विधि

मकर संक्रांति के दिन प्रातः काल शुभ मुहूर्त में स्नान आदि कर लें। यदि स्नान करने वाले पानी में काला तिल, थोड़ा सा गुड़ और गंगाजल मिला लें तो उत्तम होगा। स्नान के बाद साफ-सुथरा वस्त्र धारण कर तांबे के लोटे में जल लें। इसमें काला तिल, गुड़, लाल चंदन, लाल पुष्प, अक्षत् आदि मिला कर सूर्य को अर्पित करते हुए अर्घ्य दें और अर्घ्य देते समय सूर्य मंत्र का जाप करें। 

 On the day of Makar Sankranti, take a bath, etc. at the auspicious time in the morning. It would be better if black sesame, a little jaggery, and Ganga water are mixed in the bathing water. After bathing, put on clean clothes and burn in a copper vessel. Mixing black sesame, jaggery, red sandalwood, red flower, Akshat, etc. in it, offer Arghya to the Sun and chant Surya Mantra while offering Arghya. 

MAKKAR-SANKRANTI-POOJA VIDHI-2023-ASTRO-ARUN-PANDIT-BEST-ASTROLOGER-IN-INDIA

मकर संक्राति का महत्‍व/ Importance of Makar Sankranti

वैज्ञानिक आधार पर पहले सूर्य पृथ्वी के दक्षिणी गोलार्ध पर सीधी किरणें डालता है। जिसके कारण उत्तरी गोलार्ध में रात्रि बड़ी और दिन छोटा होता है। इसके कारण सर्द का मौसम भी रहता है। सूर्य पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध की ओर बढ़ना शुरू होता है। जिसके कारण ऋतु भी परिवर्तित होता है और यह कृषकों की फसलों के लिए बेहद ही फायदेमंद होता है।

भारतवर्ष में उपज का मौसम और मकर संक्रांति का पर्व बहुत उल्‍लास और उत्साह के साथ मनाया जाता है। जैसा कि हम भली भाँति जानते हैं कि भारतीय आबादी का एक बड़ा हिस्सा किसानों का है। इसलिए, देश के अन्य हिस्सों संक्रांति अलग-अलग तरीके से मनाई जाती हैं- 

Scientifically, first, the sun casts direct rays on the southern hemisphere of the earth. Because of this, the night is longer and the day is shorter in the northern hemisphere. Due to this, the winter season also lasts. The Sun begins to move towards the northern hemisphere of the Earth. Due to this the season also changes and it is very beneficial for the crops of the farmers.

In India, the harvest season and the festival of Makar Sankranti is celebrated with great gaiety and enthusiasm. As we are well aware that a major part of the Indian population consists of farmers. Therefore, Sankranti is celebrated differently in other parts of the country – 

 

MAKKAR-SANKRANTI-2023-LOHRI-ASTRO-ARUN-PANDIT-BEST-ASTROLOGER-IN-INDIA

थाई पोंगल/पोंगल 

तमिलनाडु में मनाया जाने वाला थाई पोंगल, भगवान इंद्र को श्रद्धांजलि देने के लिए चार दिनों के उत्सव के रुप में मनाया जाता है। यह दिन भगवान इंद्र को भरपूर बारिश के लिए आभार मानने का एक माध्यम है। इसलिए उपजाऊ भूमि और अच्छी उपज की कामना स्वरुप यह मनाई जाती हैं।

थाई पोंगल के दूसरे दिन, ताजा पका हुआ चावल दूध में उबाला जाता है और इसे भगवान सूर्य को प्रसाद स्वरुप अर्पित किया जाता है। तीसरे दिन, मट्टू पोंगल ‘बसवा’- भगवान शिव के बैल को घंटियों, फूलों की माला, और पेंट के साथ सजाकर पूजन किया जाता है। पोंगल के चौथे दिन, कन्नुम पोंगल मनाया जाता है जिसमें घर की सभी महिलाएँ एक साथ विभिन्न प्रकार के धार्मिक अनुष्ठान करती हैं।

Thai Pongal / Pongal 

Thai Pongal, celebrated in Tamil Nadu, is a four-day festival to pay homage to Lord Indra. The day is a means of thanking Lord Indra for the bountiful rains. That’s why it is celebrated as a wish for fertile land and good yield.

वैशाखी 

मकर संक्रांति को “बैसाखी” पर्व भी कहा जाता है, पंजाब में यह बहुत उल्लास के साथ मनाया जाने वाला एक फसल त्यौहार है। यह बसंत ऋतु के अनुरूप पंजाबी नववर्ष को भी चिह्नित करता है। इसी दिन, दसवें  सिख गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। सिख इस त्योहार को सामूहिक जन्मदिवस के रूप में मनाते हैं।

Baisakhi 

Makar Sankranti also called the “Baisakhi” festival is a harvest festival celebrated with great enthusiasm in Punjab. It also marks the Punjabi New Year corresponding to the spring season. On this day, the tenth Sikh Guru Gobind Singh founded the Khalsa Panth. Sikhs celebrate this festival as a collective birthday.

उत्तरायण 

गुजरात राज्य में मकर संक्रांति को उत्तरायण नाम से जाना जाता हैं। इस दिन पतंग उड़ाने, गुड़ और मूंगफली की चिक्की का दावत के रूप में लुफ्त उठाया जाता है। विशेष मसालों के साथ भुनी हुई सब्जी उत्तरायण के अवसर का मुख्य व्यंजन है।

Uttarayan 

Makar Sankranti is known as Uttarayan in the state of kite flying, jaggery, and peanut chikki are enjoyed as a feast on this day. Vegetables roasted with special spices are the main dish of the occasion of Uttarayan.

भोगली या माघ बिहू 

भोगली या माघ बिहू असम का एक सप्ताह लंबा फसल त्यौहार है। यह पर्व माह के 29 वें दिन से शुरू होता है, जो 13 जनवरी को पड़ता है और लगभग एक सप्ताह तक चलता है। इस त्यौहार पर लोग हरे बांस और घास के साथ बनी विशेष संरचना “मेजी” (एक प्रकार की अलाव) का निर्माण करते हैं और जलाते हैं।

Bhogali or Magh Bihu 

Bhogali or Magh Bihu is a week-long harvest festival of Assam. The festival begins on the 29th day of the month, which falls on January 13, and lasts for about a week. At this festival, people build and light a special structure called “meji” (a kind of bonfire) made of green bamboo and grass.

मकर संक्रांति पर तिल का दान करना क्‍यों है श्रेष्ठ? / Why is it best to donate sesame to Makar Sankranti?

मकर संक्रांति के दिन तिल दान की परंपरा है और लोग तिल से बने खाद्य पदार्थ का भी सेवन करते हैं। इसके धार्मिक के साथ ही वैज्ञानिक कारण भी हैं। 

There is a tradition of donating sesame seeds on the day of Makar Sankranti and people also eat food made from sesame seeds. There are religious as well as scientific reasons for this.

तिल दान का धार्मिक महत्व-

  • मकर संक्रांति के दिन तिल दान से सौ गुना फल की प्राप्ति होती है।
  • तिल दान या तिल से बनी सामग्री ग्रहण करने से कष्टदायक ग्रहों से छुटकारा मिलता है।
  • मान्यता है कि माघ मास में प्रतिदिन तिल से भगवान विष्णु की पूजा करने से व्यक्ति सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।
  • मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं। सूर्य पुत्र होने के बावजूद उनका सूर्य से शत्रुवत संबंध होता है। ऐसे में शनि के भाव में सूर्य की उपस्थिति से कष्ट न हो, इसलिए मकर संक्रांति के दिन तिल का दान और सेवन किया जाता है।

The religious importance of sesame donation –

  • On the day of Makar Sankranti, sesame donation gives a hundred times the fruit.
MAKKAR-SANKRANTI-TIL-GUD-2023-ASTRO-ARUN-PANDIT-BEST-ASTROLOGER-IN-INDIA
  • By donating sesame seeds or taking things made of sesame seeds, one gets relief from malefic planets.
  • It is believed that by worshiping Lord Vishnu with mole every day in the month of Magh, all the troubles of a person go away.
  • Saturn is the lord of Capricorn. Despite being Surya’s son, he has a hostile relationship with Surya. In such a situation, the presence of the Sun in the house of Saturn does not cause any problem, therefore sesame seeds are donated and consumed on the day of Makar Sankranti.

 

मकर संक्रांति के दिन तिल दान की परंपरा है और लोग तिल से बने खाद्य पदार्थ का भी सेवन करते हैं। इसके धार्मिक के साथ ही वैज्ञानिक कारण भी हैं। 

There is a tradition of donating sesame seeds on the day of Makar Sankranti and people also eat food made from sesame seeds. There are religious as well as scientific reasons for this.

जानिए तिल में क्या है गुण

  • मकर संक्राति पर तिल और गुड़ से बनी मिठाई खाई जाती है। तिल और गुड़ गर्म होते हैं। इसके सेवन से शरीर गर्म रहता है।
  • तिल तेल से शरीर को भरपूर नमी भी मिलती है।
  • तिल में कॉपर, मैग्नीशियम, आयरन, मैग्नीज, कैल्शियम, फास्फोरस, जिंक, विटामिन बी 1 और फाइबर आदि प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
  • तिल के सेवन से शरीर को भरपूर कैलोरी हासिल होती है।
  • तिल एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो शरीर में मौजूद कीटाणुओं का नाश करता है।

Know what are the qualities of sesame

  • Sweets made of sesame and jaggery are eaten on Makar Sankranti. Sesame and jaggery are hot. By consuming it, the body remains warm.
  • Sesame oil also provides a lot of moisture to the body.
  • Copper, magnesium, iron, manganese, calcium, phosphorus, zinc, vitamin B1 and fiber, etc. are found in abundance in sesame.
  • The body gets plenty of calories by consuming sesame seeds.
  • Sesame is an antioxidant, which destroys the germs present in the body.

जानिये मकर संक्राति 2023 में राशि अनुसार क्‍या दान करें- /Know what to donate on Makar Sankranti 2023 according to zodiac sign -

मकर संक्रांति का दिन सूर्य के धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। इस दिन दान पुण्य करने का विशेष महत्व होता है, आइए जानते हैं इस विशेष दिन  पर क्या दान करना चाहिए- 

The day of Makar Sankranti is celebrated on the occasion of the Sun entering Capricorn from Sagittarius. There is special importance in doing charity on this day, let us know what should be donated on this special day – On the 

  • मकर संक्रांति के दिन गरीबों को तिल पर बनी चीजें दान करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि शनि देव ने अपने पिता सूर्य की पूजा करने के लिए काले तिल का प्रयोग किया था। जिससे खुश होकर सूर्यदेव ने शनि को वरदान दिया था कि मकर संक्रांति के दिन जो भी तिल का दान करेगा, उसके सारे दु:ख दर्द दूर हो जाएंगे। इसके साथ ही तिल का दान करने से शनि दोष भी दूर हो जाता है। कुंभ, मकर राशि के जातक काले तिल का दान जरूर करें।
  • day of Makar Sankranti, things made of sesame seeds should be donated to the poor. It is believed that Shani Dev used black sesame seeds to worship his father Surya. Pleased with this, Suryadev had given a boon to Shani that whoever donates sesame on the day of Makar Sankranti, all his sorrows and pains will go away. Along with this, by donating sesame, Shani dosha also goes away. The people of Aquarius and Capricorn must donate black sesame seeds.
MAKKAR-SANKRANTI-DAAN-2023-ASTRO-ARUN-PANDIT-BEST-ASTROLOGER-IN-INDIA
  • मकर संक्रांति के दिन जरूरतमंदों को कंबल का दान करना चाहिए। इससे व्यक्ति के जीवन में राहु के अशुभ प्रभाव दूर हो जाते हैं। मेष, तुला, सिंह और मिथुन राशि के जातक इस साल राहु के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए कंबल दान करें।
  • On the day of Makar Sankranti, blankets should be donated to the needy. This removes the inauspicious effects of Rahu in a person’s life. People of Aries, Libra, Leo, and Gemini should donate blankets to remove the inauspicious effects of Rahu this year.
  • मकर संक्रांति के इस पावन दिन पर पर चावल और उड़द की काली दाल से बनी खिचड़ी का दान करना भी बहुत लाभदायक माना जाता है। इस दान को करने से शनिदेव बहुत प्रसन्न होते हैं और आपको अक्षय फल की प्राप्ति होती है। वृश्चिक, धनु और मीन राशि के जातक चावल और फल का दान करें।
  • On this auspicious day of Makar Sankranti, donating khichdi made of rice and black lentils of urad is also considered very beneficial. Shani Dev is very happy by doing this donation and you get renewable fruit. People of Scorpio, Sagittarius and Pisces should donate rice and fruits.
  • मकर संक्रांति के दिन किसी गरीब या जरूरत मंद को एक जोड़ी वस्त्र दान करने से बहुत लाभ मिलता है। हालांकि, आपको ध्यान रखना होगा कि वस्त्र इस्तेमाल किए हुए, फटे हुए या पुराने नहीं होना चाहिए। वृषभ और कन्या राशि के जातक  जरूरतमंद व्यक्ति को वस्त्र दान कर सकते हैं।
  • Donating a pair of clothes to a poor or needy person on the day of Makar Sankranti is very beneficial. However, you have to keep in mind that the clothes should not be used, torn or old. The people of Taurus and Virgo can donate clothes to needy people.
  • मकर संक्रांति के दिन घी का दान करने से आपको बहुत पुण्य मिलता है। इस दिन शुद्ध घी का दान करने से आपको कॅरियर के साथ सभी प्रकार की भौतिक सुविधाएं प्राप्‍त होती हैं। इसके अलावा आपके लिए मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं। कर्क राशि के जातक दूध या घी जरूर दान करें।
  • You get a lot of virtue by donating ghee on the day of Makar Sankranti. By donating pure ghee on this day, you get all kinds of physical facilities along with your career. Apart from this, the doors of salvation open for you. Cancerians must donate milk or ghee.

About The Author -

Astro Arun Pandit is the best astrologer in India in the field of Astrology, Numerology & Palmistry. He has been helping people solve their life problems related to government jobs, health, marriage, love, career, and business for 49+ years.

october-prediction-2023

अक्टूबर राशिफल 2023 सौगातों या समस्या से भरा रहेगा अक्टूबर का ये महीना आपके लिये। अक्टूबर के महीने में शनि कुछ राशियों में वक्री हो रहे है, जिससे कुछ राशियों

Read More »

Purnima vrat 2023

भाद्रपद पूर्णिमा व्रत पूर्णिमा की तिथि का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व बताया गया है। भाद्रपद पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु के सत्यनारायण रूप की पूजा की जाती है, साथ

Read More »

Anant Chaturdashi 2023

अनंत चतुर्दशी अनंत चतुर्दशी अनंत चतुर्दशी व्रत का सनातन धर्म में बड़ा महत्व है, इसे हम लोग अनंत चौदस के नाम से भी जानते है। इस व्रत में भगवान विष्णु

Read More »

Parivartini Ekadashi 2023

परिवर्तिनी एकादशी परिवर्तिनी एकादशी युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवन्! भाद्रपद शुक्ल पक्ष एकादशी का क्या नाम है तथा इसकी विधि और माहात्म्य क्या है? कृपा करके आप विस्तार-पूर्वक कहिए।

Read More »

Hartalika Teej 2023

हरतालिका तीज हरतालिका तीज व्रत सनातन धर्म में मनाये जाने वाला एक प्रमुख व्रत है।यह त्योहार मुख्य रूप से महिलाओं के लिए विशेष महत्व रखता है। भाद्रपद के शुक्ल पक्ष

Read More »

गणेश चतुर्थी 2023

गणेश चतुर्थी गणेश चतुर्थी व्रत हर भाद्र मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाई जाएगी। इस चतुर्थी को सिद्धि विनायक व्रत के नाम से भी जाना जाता है।

Read More »