Search
Close this search box.
maha shivratri 2023 shubh mahurat astro arun pandit

इस म‍हाशिवरात्रि पर इन उपायाें से होगी हर मनोकामनायें पूरी।

इस म‍हाशिवरात्रि पर इन उपायाें से होगी हर मनोकामनायें पूरी।

हिन्दू कलैंडर के अनुसार हर वर्ष माघ-फागुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। भगवान शिव और माता पार्वती के मिलन का पर्व महाशिवरात्रि सनातन हिन्दू धर्म में बहुत अधिक महत्व रखता है। माना जाता है कि सृष्टि का प्रारम्भ भी इसी दिन से हुआ था। जो कि भगवान शिव के वृहद अग्निलिंग स्वरूप से शुरू हुआ था। यह साल की 12 शिवरात्रियों में सबसे बड़ी शिवरात्रि होती है, जिसे भारत के अलावा विश्व स्तर पर मनाया जाता है। इस दिन चारों तरफ खुशी और हर्ष का माहौल बना होता है। प्राकृतिक रूप से भी यह सकारात्मकता का कारक त्यौहार माना जाता है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा-आराधना के साथ ही तरह-तरह के धार्मिक आयोजन किए जाते है। हिन्दू धर्म के लोगों द्वारा अपने घर और धार्मिक स्थलों पर रुद्राभिषेक के साथ ही साथ भजन, सांस्कृतिक उत्सव, भंडारे, जागरण आदि शुभ आयोजन आयोजित किए जाते हैं। महाशिवरात्रि की विशेष रात्रि के निशिता काल में ही की जाती है। वर्ष 2023 में 18 फरवरी, दिन शनिवार को महाशिवरात्रि का परम पावन त्यौहार मनाया जाएगा।

According to the Hindu calendar, Mahashivaratri festival is celebrated every year on the Chaturdashi date of Krishna Paksha of the month of Magha-Phagun. Mahashivaratri, the festival of union of Lord Shiva and Mother Parvati, holds great importance in Sanatan Hindu religion. It is believed that the beginning of the universe also took place from this day. Which started with the huge Agniling form of Lord Shiva. It is the biggest Shivaratri among the 12 Shivaratri of the year, which is celebrated globally apart from India. On this day, there is an atmosphere of happiness and joy all around. Naturally, this festival is considered to be a factor of positivity.

On this day, along with the worship of Lord Shiva and Mother Parvati, various religious events are organized. Along with Rudrabhishek, Bhajans, cultural festivals, Bhandaras, Jagran etc. auspicious events are organized by the people of Hindu religion at their homes and religious places. This is done only during the Nishita period of the special night of Mahashivaratri. In the year 2023, the most holy festival of Mahashivratri will be celebrated on 18th February, Saturday.

auspicious time/ शुभ मुहूर्त-

चतुर्दशी तिथि प्रारंभ – 18 फरवरी, रात 08:02 बजे से

चतुर्दशी समाप्त – 19 फरवरी,शाम 04:18 बजे तक 

निशिता काल पूजा मुहूर्त- 18 फरवरी, रात 12:09 से 01:00 बजे तक

अवधि- 50 मिनट

महाशिवरात्री पारणा मुहूर्त- 19 फरवरी, सुबह 06:57 बजे से दोपहर 03:25 बजे तक

Chaturdashi date starts February 18, from 08:02

Chaturdashi ends- February 19, till 04:18 pm

Nishita Kaal Puja Muhurta- February 18, from 12:09 am to 01:00 am

Duration- 50 Minutes

Mahashivaratri Parana Muhurta – February 19, from 06:57 am to 03:25 pm

क्या है महाशिवरात्रि? /What is Mahashivaratri?

क्या है महाशिवरात्रि? /What is Mahashivaratri?

  • हर महीने कृष्ण पक्ष में आने वाली चतुर्दशी तिथि यानि अमावस्या से पहले का दिन शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है। इसे मासिक शिवरात्रि कहा जाता है, जिसमें भगवान शिव की पूजा-आराधना की जाती है। लेकिन पूरे  वर्ष में आने वाली सभी शिवरात्रियों में, फरवरी-मार्च के महीने की महाशिवरात्रि को सर्वाधिक महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि इस रात को ही सृष्टि का जन्म और  माता पार्वती और भगवान शिव का विवाह हुआ था। शिव और शक्ति के मिलन का ये पावन दिवस सनातन धर्म में बहुत अधिक महत्व रखता है। हर तरफ हर्षोल्लास का माहौल बना होता है। पूरे वातावरण में शिव और शक्ति की आराधना की परम ऊर्जा प्रवाहित होती है, जिससे मन और मस्तिष्क में सकारात्मकता का संचार होता है। वैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो महाशिवरात्रि की रात को, पृथ्वी का उत्तरी गोलार्द्ध इस प्रकार अवस्थित होता है कि मनुष्य की भीतर ऊर्जा प्राकृतिक रूप से ऊपर की ओर जाती है। यह एक ऐसा दिन है, जब प्रकृति मनुष्य को साधना, तपस्या, योग और ध्यान के माध्यम से उसके आध्यात्मिक शिखर तक पहुँचने में मदद करती है। अतः इस समय का सदुपयोग करने और इस परंपरा के सम्मान में सभी लोग आपस में मिलकर महाशिवरात्रि का यह महोत्सव मनाते हैं, जो पूरी रात चलता है।
  • Chaturdashi Tithi i.e. the day before Amavasya falling in Krishna Paksha every month is known as Shivratri. This is called Masik Shivratri, in which Lord Shiva is worshipped. But among all the Shivratris that fall throughout the year, the Mahashivratri in the month of February-March is considered the most important, because it was on this night that the creation took place and the marriage of Mother Parvati and Lord Shiva took place. This auspicious day of union of Shiva and Shakti holds great importance in Sanatan Dharma. There is an atmosphere of joy everywhere. The ultimate energy of worship of Shiva and Shakti flows in the entire atmosphere, which infuses positivity in the mind and brain. Scientifically speaking, on the night of Mahashivaratri, the northern hemisphere of the earth is positioned in such a way that the energy within the human being naturally moves upwards. It is a day when nature helps man to reach his spiritual pinnacle through sadhana, penance, yoga and meditation. Therefore, to make good use of this time and in honor of this tradition, all people together celebrate this festival of Mahashivaratri, which lasts the whole night.

महाशिवरात्रि का आध्यत्मिक और वैज्ञानिक महत्व/ Spiritual and scientific importance of Mahashivratri-

महाशिवरात्रि का आध्यत्मिक और वैज्ञानिक महत्व/ Spiritual and scientific importance of Mahashivratri-

  • महाशिवरात्रि का आध्यात्मिक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से बड़ा ही गहरा महत्व है।

    वैज्ञानिक खोजों के अनुसार ब्रह्मांड में एक अज्ञात और रहस्यमयी ऊर्जा मौजूद है, जो हम सभी को चला रही है। प्रकृति का स्वयं बनना आज भी एक रहस्य है। विश्व भर के सारे वैज्ञानिकों ने कई तरह से अनुमान लगाया पर किसी तरह के निष्कर्ष पर पहुँच पाना संभव नहीं हो पाया और न ही वे अभी तक इसे कोई नाम दे पाए हैं। हालांकि, प्राचीन काल के संतों ने इस अज्ञात ऊर्जा को शिव कहा है और अपने ठोस आध्यात्मिक कारण भी दिए हैं।

  • Mahashivaratri has a very deep significance from the spiritual and scientific point of view.

    According to scientific discoveries, there is an unknown and mysterious energy present in the universe, which is driving all of us. Nature’s becoming itself is still a mystery. All the scientists around the world have speculated in many ways but it has not been possible to reach any kind of conclusion nor have they been able to give any name to it yet. However, sages of ancient times have called this unknown energy as Shiva and have also given their solid spiritual reasons.

  • माना जाता है कि शिव हर जीवित प्राणी को जीवित करने वाली ऊर्जा है। हम शिव की वजह से सांस लेने, खाने, चलने और अपनी दैनिक गतिविधियों को करने में सक्षम हैं। यह ऊर्जा न केवल जीवित प्राणियों को चलाती है, बल्कि यह निर्जीव वस्तुओं में भी उनकी ऊर्जा के रूप में निवास करती है। इस प्रकार, शिव पूरे अस्तित्व को संचालित करते हैं। महाशिवरात्रि वह दिन है जब शिव तत्व, पृथ्वी को छूता है। चेतना, आभा या ईथर दुनिया जो भौतिक जमीन से हमेशा दस इंच ऊपर होती है, महाशिवरात्रि के दिन पृथ्वी तत्व को छूती है। यह आध्यात्मिकता  के साथ भौतिकता का विवाह है।

नवग्रह प्रार्थना मंत्र/ Navagraha Prayer Mantra-

ब्रह्मा मुरारीत्रिपुरान्तकारी

भानुः शशि भूमिसुतो बुधश्च ।

गुरुश्च शुक्रः शनिराहुकेतवः

कुर्वन्तु सर्वे मम सुप्रभातम् ॥

Shiva is believed to be the animating energy of every living being. We are able to breathe, eat, walk and do our daily activities because of Shiva. This energy not only drives living beings, but it also resides in non-living things as their energy. Thus, Shiva governs the entire existence. Mahashivaratri is the day when the element Shiva touches the earth. Consciousness, the aura or the etheric world which is always ten inches above the physical ground, touches the earth element on the day of Mahashivaratri. It is the marriage of materiality with spirituality.

 

शिव (सब कुछ की) आत्मा है – आत्मा और शिव में कोई अंतर नहीं है। आपका वास्तविक स्वरूप शिव है, और शिव- शांति, अनंत, सौंदर्य और अद्वैत हैं। रात्रि का अर्थ है ‘शरण लेना’। अर्थात महाशिवरात्रि शिव (आत्मा) में शरण ले रही है। यह अपने भीतर शिव तत्व का उत्सव मना रहा है।
Shiva is the soul (of everything) – there is no difference between soul and Shiva. Your real nature is Shiva, and Shiva is peace, infinity, beauty and non-duality. Ratri means ‘to take refuge’. That means Mahashivratri is taking refuge in Shiva (soul). It is celebrating the Shiva element within itself.

पारिवारिक परिस्थितियों में मग्न लोग महाशिवरात्रि को शिव के विवाह के उत्सव की तरह मनाते हैं। सांसारिक महत्वाकांक्षाओं में मग्न लोग महाशिवरात्रि को, शिव के द्वारा अपने शत्रुओं पर विजय पाने के दिवस के रूप में मनाते हैं। हालांकि, साधकों के लिए, यह वह दिन है, जिस दिन वे कैलाश पर्वत के साथ एकात्म हो गए थे। वे एक पर्वत की भांति स्थिर व निश्चल हो गए थे। योगिक परंपरा में, शिव को किसी देवता की तरह नहीं पूजा जाता। उन्हें आदि गुरु माना जाता है, पहले गुरु, जिनसे ज्ञान उपजा। ध्यान की अनेक सहस्राब्दियों के पश्चात्, एक दिन उन्होंने ज्ञान की चरम सीमा को छुआ और वे पूर्ण रूप से स्थिर हो गए, वही दिन महाशिवरात्रि का था।

People engaged in family situations celebrate Mahashivaratri as a festival of the marriage of Shiva. People engrossed in worldly ambitions celebrate Mahashivratri as the day of Shiva’s victory over his enemies. However, for the Sadhaks, it is the day they became one with Mount Kailash. He had become stable and motionless like a mountain. In the Yogic tradition, Shiva is not worshiped as a deity. He is considered the Adi Guru, the first Guru, from whom knowledge originated. After several millennia of meditation, one day he touched the pinnacle of knowledge and became completely still, that day being Mahashivaratri.

भगवान शिव को जितना अधिक सांसारिक लोग मानते हैं, उससे कहीं ज़्यादा आध्यात्मिक पथ पर चलने वाले लोग भी मानते हैं। इसके अलावा वैरागी लोग भी भगवान शिव को एक वैरागी ही मानते हैं, जो सांसारिक जीवन से दूर है। कुछ लोगों की मान्यता के अनुसार भगवान शिव एक सत्य रूप है और यह पूरा संसार केवल मोहमाया है। विशेष आराधना के माध्यम से हम सभी लोग इस मोह माया से दूर होकर सत्य रूप को प्राप्त कर सकते हैं और शिव में मिल सकते हैं। योगिक परम्परा में भगवान शिव को एक ज्ञानी और वैरागी माना गया हैं। यह परम्परा शांति में विश्वास रखती हैं, इस वजह से महाशिवरात्रि आध्यात्मिक रूप से भी काफी खास हैं। अलग-अलग विचारधारा और विश्वास के बावजूद पूरा विश्व समुदाय भगवान शिव को ही पूजता है और शिवजी को पाने के मार्गों पर चलने का प्रयत्न करता है।

 

About The Author -

Astro Arun Pandit is the best astrologer in India in the field of Astrology, Numerology & Palmistry. He has been helping people solve their life problems related to government jobs, health, marriage, love, career, and business for 49+ years.

वट सावित्री व्रत 2024

वट सावित्री व्रत: महत्व, पूजा विधि, और पौराणिक कथा इस साल वट सावित्री व्रत 6 जून, गुरुवार को मनाया जाएगा। इसे सावित्री अमावस्या या वट पूर्णिमा भी कहा जाता है।

Read More »

राहु गोचर 2024: राहु ने बदली चाल, इन राशियों को अगले 60 दिन रहना होगा सावधान !

राहु गोचर 2024| Rahu Gochar 2024: ज्योतिष में ग्रहों का महत्त्व जगजाहिर है। ज्योतिष में सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, देवगुरु बृहस्पति, शुक्र व शनि को प्रत्यक्ष जबकि राहु-केतु छाया या

Read More »

गुरु चांडाल योग कितना खतरनाक ? जानें क्या है इस दोष से बचने के उपाय !

गुरु चांडाल योग ज्योतिष में एक विवादास्पद अवधारणा है। इसे अक्सर अशुभ माना जाता है। हालांकि, ज्योतिष सिर्फ भविष्यवाणी नहीं है, बल्कि ग्रहों की ऊर्जा को समझने का एक उपकरण

Read More »

Know How June Born People are | Personalities

अपनी Birthday Report से जानें क्‍या कहती है आपकी जन्‍म तारीख? Know How Are June Born People| जानिये कैसे होते हैं जून में जन्‍में लोग? | June 1st to June

Read More »

अक्षय तृतीया 2024

अक्षय तृतीया 2024: हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का पर्व बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है।

Read More »