pandit atal bihari vajpayee birthday, hindutva and patriotic poems vastu expert arun ji

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

पंडित अटल बिहारी वाजपेयी जन्‍मदिन विशेष 25 दिसम्‍बर

अपनी नेतृत्‍व क्षमता से लोगों के दिलों में जगह बनाने वाले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न पंडित श्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्‍मदिवस हमारे लिये बहुत विशेष है। न केवल भारतीय राजनीति बल्कि आम जीवन में भी वे सबके चहेते थे। हिन्दू राष्ट्रवादी विचारधारा को लेकर उन्होंने भारतीय राजनीति को नया आयाम दिया। सभी प्यार से उन्हें अटल जी और पण्डित जी कहकर संबोधित करते थे। अपना पूरा जीवन भारत के उत्थान में लगा देने वाली ऐसी महान विभूति के विचारों और जीवनशैली से आज की पीढ़ी भी प्रभावित है।

The birthday of Bharat Ratna Pandit Shri Atal Bihari Vajpayee, the former Prime Minister of India, who made a place in the hearts of people with his leadership capacity, is very special for us. He was everyone’s favorite not only in Indian politics but also in common life. He gave a new dimension to Indian politics regarding Hindu nationalist ideology. Everyone used to lovingly address him as Atal ji and Pandit ji. Today’s generation is also influenced by the thoughts and lifestyle of such a great personality who spent his whole life in the upliftment of India.

श्री वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। जबकि इनका पैतृक गांव बटेश्वर (आगरा) था। इनके पिता श्री कृष्ण बिहारी वाजपेयी एक शिक्षक और कवि थे। इनकी माता का नाम कृष्णा देवी वाजपेयी था। इनके 3 भाई और 3 बहनें थीं। एक विनम्र स्कूल शिक्षक के परिवार में जन्‍में अटल जी को पारिवारिक जीवन में मिली शिक्षा और संस्‍कार उनके राजनीतिक कौशल और भारतीय लोकतंत्र में उन्‍हें सफल बनाती है। वाजपेयी जी एक ऐसे नेता हैं, जो विश्व के प्रति उदारवादी सोच और लोकतांत्रिक आदर्शों के प्रति प्रतिबद्धता के लिये पहचाने जाते हैं। 

Shri Vajpayee was born on December 25, 1924, in Gwalior, Madhya Pradesh in a middle-class family. While his native village was Bateshwar (Agra). His father Shri Krishna Bihari Vajpayee was a teacher and poet. His mother’s name was Krishna Devi Vajpayee. He had 3 brothers and 3 sisters. Born in a humble school teacher’s family, Atal ji’s education and culture in family life made him successful in his political acumen and Indian democracy. Vajpayee ji is such a leader, who is recognized for his liberal thinking toward the world and commitment to democratic ideals

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी न सिर्फ एक अच्‍छे राजनेता बल्कि एक कुशल कवि, लेखक और बहुमुखी प्रतिभा संपन्न व्‍यक्ति भी थे। उनके भाषणों में एक जादू था जो लोगों को सहज आकर्षित करता था। लोग उन्हें बार-बार सुनना चाहते थे। विरोधी दल के नेता भी अटल जी के भाषणों और उनके विचारों के मुरीद थे। संसद में उनकी बहस विपक्षी दल भी शांत होकर सुनता था। अटल जी की कविताएं जीवन को नयी दिशा और ऊर्जा देने में प्रभावी है। उनकी कविताओं में देशप्रेम की भावना साफ दिखाई देती है

Former Prime Minister of India Atal Bihari Vajpayee was not only a good politician but also an accomplished poet, writer, and versatile personality. There was magic in his speeches that easily attracted people. People wanted to hear him again and again. The leaders of the opposition parties were also admirers of Atal ji’s speeches and his thoughts. Even the opposition party used to listen to his debate in the Parliament quietly. Atal ji’s poems are effective in giving new direction and energy to life. The spirit of patriotism is clearly visible in his poems.

अपने जीवन काल में उन्होंने राजनैतिक जीवन से जुड़ी 14 और कविताओं की 5 से अधिक किताबें लिखीं। ऊर्जा से ओतप्रोत उनकी कई कविताएं आज भी जनता को रटी हुई हैं। अटल जी के लेख और कविताएं राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य, नई कमल ज्योति, धर्मयुग, कादम्बिनी, नवनीत और कई प्रसिद्ध समाचार पत्रों में प्रकाशित हुए हैं। उनकी एक प्रसिद्ध कविता का अंश इसका एक बड़ा उदाहरण है।

In his lifetime, he wrote 14 books related to political life and more than 5 books of poems. Many of his poems filled with energy are still being recited by the public. Atal ji’s articles and poems have been published in Rashtradharma, Panchjanya, Nai Kamal Jyoti, Dharmayug, Kadambini, Navneet, and many other famous newspapers. An excerpt from one of his famous poems is a great example of this.

टूटे हुए सपनों की कौन सुने सिसकी,

अंतर को चीर व्यथा पलकों पर ठिठकी।

हार नहीं मानूंगा,

रार नहीं ठानुंगा,

काल के कपाल पर लिखता-मिटाता हूँ।

गीत नया गाता हूँ।

अटल जी ने अपना पूरा जीवन देश के लिए समर्पित कर दिया। वे जीवन भर अविवाहित ही रहे। खुद के स्वार्थ को छोड़कर वे सिर्फ देश का स्वार्थ देखने लगे। और यह विश्व विदित है कि भारतीय राजनीति के शिखर पर पंडित जी का नाम आज भी अटल है।

Atal ji dedicated his whole life to the country. He remained unmarried throughout his life. Leaving their own interest, they started looking only at the interest of the country. And it is world known that Pandit ji’s name at the pinnacle of Indian politics is unshakable even today.

हिंदुत्व और राष्ट्रप्रेमी कविताएं / Hindutva and patriotic poems-

पंडित जी पूरी तरह से हिंदुत्व विचारधारा के समर्थक थे, बावजूद इसके हर धर्म के लोग उन्हें पसंद करते थे। अटल जी की कुछ कविताएं जो उनके हिन्दू प्रेम को दर्शाती है।

Pandit ji was completely a supporter of Hindutva ideology, yet people of all religions liked him. Some poems of Atal ji reflect his Hindu love.

मै शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार–क्षार। डमरू की वह प्रलय–ध्वनि हूँ, जिसमे नचता भीषण संहार।

रणचंडी की अतृप्त प्यास, मै दुर्गा का उन्मत्त हास। मै यम की प्रलयंकर पुकार, जलते मरघट का धुँआधार।

फिर अंतरतम की ज्वाला से जगती मे आग लगा दूँ मैं। यदि धधक उठे जल, थल, अंबर, जड चेतन तो कैसा विस्मय?

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

 

मै अखिल विश्व का गुरु महान्, देता विद्या का अमरदान। मैने दिखलाया मुक्तिमार्ग, मैने सिखलाया ब्रह्मज्ञान।

मेरे वेदों का ज्ञान अमर, मेरे वेदों की ज्योति प्रखर। मानव के मन का अंधकार, क्या कभी सामने सका ठहर?

मेरा स्वर्णभ मे घहर–घहर, सागर के जल मे छहर–छहर। इस कोने से उस कोने तक, कर सकता जगती सोराभ्मय।

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

 

मैने छाती का लहू पिला, पाले विदेश के क्षुधित लाल।मुझको मानव में भेद नही, मेरा अन्तस्थल वर विशाल।

जग से ठुकराए लोगों को लो मेरे घर का खुला द्वार। अपना सब कुछ हूँ लुटा चुका, फिर भी अक्षय है धनागार।

मेरा हीरा पाकर ज्योतित परकीयों का वह राजमुकुट। यदि इन चरणों पर झुक जाए कल वह किरीट तो क्या विस्मय?

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

 

होकर स्वतन्त्र मैने कब चाहा है कर लूँ सब को गुलाम? मैने तो सदा सिखाया है करना अपने मन को गुलाम।

गोपाल–राम के नामों पर कब मैने अत्याचार किया? कब दुनिया को हिन्दू करने घर–घर मे नरसंहार किया?

कोई बतलाए काबुल मे जाकर कितनी मस्जिद तोडी? भूभाग नहीं, शत–शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय।

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

 

मै एक बिन्दु परिपूर्ण सिन्धु है यह मेरा हिन्दु समाज। मेरा इसका संबन्ध अमर, मैं व्यक्ति और यह है समाज।

इससे मैने पाया तन–मन, इससे मैने पाया जीवन। मेरा तो बस कर्तव्य यही, कर दू सब कुछ इसके अर्पण।

मै तो समाज की थाति हूँ, मै तो समाज का हूं सेवक। मै तो समष्टि के लिए व्यष्टि का कर सकता बलिदान अभय।

हिन्दू तन–मन, हिन्दू जीवन, रग–रग हिन्दू मेरा परिचय!

-पं. अटल बिहारी वाजपेयी

ऊर्जा संचारक कवितायें / Energy communicator poems-

अटल जी ने अपने पूरे जीवन में कई छोटी-बड़ी कविताएँ लिखीं, जिन्हें पढ़कर लोगों में वीरता के भाव स्वतः ही जागृत हो जाते हैं। वहीं कई कविताएं ऐसी हैं जो कमज़ोर वक्त के समय आपमें एक नयी ऊर्जा का संचार करती है।

Atal ji wrote many small and big poems throughout his life, reading which automatically awakens feelings of heroism in people. At the same time, there are many poems that infuse new energy in you during weak times.

आओ फिर से दिया जलाएँ

भरी दुपहरी में अँधियारा, सूरज परछाई से हारा,

अन्तरतम का नेह निचोड़ें, बुझी हुई बाती सुलगाएँ।

आओ फिर से दिया जलाएँ ।

हम पड़ाव को समझे मंजिल, लक्ष्य हुआ आँखों से ओझल,

वर्तमान के मोहजाल में आने वाला कल न भुलाएँ।

आओ फिर से दिया जलाएँ।

आहुति बाकी, यज्ञ अधूरा, अपनों के विघ्नों ने घेरा,

अंतिम जय का वज्र बनाने, नव दधीचि हड्डियाँ गलाएँ।

आओ फिर से दिया जलाएँ ।

-पं. अटल बिहारी वाजपेयी

एकता और समानता वर्धक कविताएं / Poems promoting unity and equality

बाधाएँ आती हैं आएँ, घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,

पाँवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,

निज हाथों से हँसते-हँसते, आग लगा कर जलना होगा।

कदम मिलाकर चलना होगा।

उजियारे में, अंधकार में, कल कछार में, बीच धार में,

घोर घृणा में, पूत प्यार में, क्षणिक जीत में, दीर्घ हार में,

जीवन के शत-शत आकर्षक, अरमानों को दलना होगा।

कदम मिलाकर चलना होगा।

कुश काँटों से सज्जित जीवन, प्रखर प्यार से वञ्चित यौवन,

नीरवता से मुखरित मधुवन, पर-हित अर्पित अपना तन-मन,

जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा।

कदम मिलाकर चलना होगा ।

-पं.अटल बिहारी वाजपेयी

हास्य- रुदन में, तूफानों में, अमर असंख्यक बलिदानों में,

उद्यानों में, वीरानों में, अपमानों में, सम्मानों में,

उन्नत मस्तक, उभरा सीना, पीड़ाओं में पलना होगा !

कदम मिलाकर चलना होगा।

सम्मुख फैला अमर ध्येय पथ, प्रगति चिरन्तन कैसा इति अथ,

सुस्मित हर्षित कैसा श्रम श्लथ, असफल, सफल समान मनोरथ,

सब कुछ देकर कुछ न माँगते, पावस बनकर ढलना होगा।

कदम मिलाकर चलना होगा।

 

अटल जी का जीवन परिचय / Life introduction of Atal ji

अटल जी का जीवन ही उनका परिचय है। वे भारत के लोकप्रिय व्यक्तित्वों में से एक हैं। उनके जीवन के कुछ मुख्य बिंदु ऐसे हैं, जिनसे हम सभी बहुत कुछ सीख सकते हैं।

Atal ji’s life itself is his introduction. He is one of the most popular personalities in India. There are some key points in his life from which we all can learn a lot.

पिता-पुत्र की एकसाथ शिक्षा / Father-son education together

  • जन्म से ही विलक्षण प्रतिभा के धनी और कुशाग्र बुद्धि के मालिक रहे अटल जी राजनीति विज्ञान और लॉ के छात्र थे। उनके विद्यार्थी जीवन में वे अपनी मित्र मंडली और अध्यापकों के बीच बेहद लोकप्रिय रहे। अटल जी के जीवन परिचय से सम्भवतः सभी परिचित हैं लेकिन उनके बारे में एक बात बहुत कम लोग जानते होंगे, वह यह कि अटल जी और उनके पिता जी ने कॉलेज की पढ़ाई साथ-साथ की। दरअसल जब अटल जी कानून की पढ़ाई करने कानपुर आना चाहते थे, तब तक उनके पिता जी सेवानिवृत्त हो चुके थे। अटल जी ने कानपुर आने की इच्छा व्यक्त की तब उनके पिता जी ने भी उन्हीं के साथ कानपुर के D.A.V. कॉलेज में दाखिला ले लिया। वे पढ़ाई पूरी होने तक छात्रावास में भी एक साथ ही रहे। पूरे कॉलेज और छात्रावास में वे आकर्षण का केंद्र थे।

  • Atal ji, who was the owner of prodigious talent and sharp intellect since birth, was a student of Political Science and Law. In his student life, he was very popular among his friends and teachers. Everyone is probably familiar with Atal ji’s life introduction, but very few people would know one thing about him, Atal ji and his father studied college together. In fact, when Atal ji wanted to come to Kanpur to study law, by then his father had retired. Atal ji expressed his desire to come to Kanpur, then his father also accompanied him to Kanpur’s D.A.V. Took admission to college. They stayed together in the hostel till the completion of their studies. He was the center of attraction in the entire college and hostel.

 

आज़ादी की क्रांति का हिस्सा / Part of the freedom revolution

सन 1942 में आज़ादी की लड़ाई का माहौल बहुत भीषण रूप ले चुका था। हर तरफ आज़ादी की लहर चल रही थी, जिसका प्रभाव अटल जी पर भी था। जो भी आज़ादी के अभियान में शामिल होता, पुलिस उसे जेल में भर देती थी। अटल जी के भविष्य को देखते हुए उनके पिता जी ने उन्हें बटेश्वर भेज दिया। लेकिन भारत छोड़ो आंदोलन में उन्होंने ज़ोर-शोर से भाग लिया। यह गुलाम भारत का वही आखिरी अभियान था जिसकी जिसकी वजह से ब्रिटिश उपनिवेशवाद का अंत हुआ, इसलिए इस आंदोलन की एक अलग ही ताकत थी जिसने बच्चे बच्चे में भी आज़ादी की चाहत तेज़ कर फि थी। अटल जी भी आज़ादी की क्रांति में भाग लेने लगे और एक दिन पुलिस ने उन्हें पकड़ कर जेल में भेज दिया। तब वे नाबालिग थे, इसलिए ज़्यादा दिन जेल में नही रहे। परन्तु उनके मन में देश प्रेम की आग और अधिक धधक चुकी थी।

In the year 1942, the atmosphere of the freedom struggle had taken a very gruesome form. The wave of freedom was going everywhere, which had an impact on Atal ji as well. Whoever was involved in the freedom movement, the police used to put in jail. Seeing the future of Atal ji, his father sent him to Bateshwar. But he actively participated in the Quit India Movement. This was the last campaign of slave India which led to the end of British colonialism, so this movement had a different power that intensified the desire for freedom even in children. Atal ji also started participating in the freedom movement and one day the police caught him and sent him to jail. He was a minor then, so he did not stay in jail for long. But the fire of patriotism in his mind was burning even more.

 

साहित्य और पत्रकारिता की दुनिया का आरम्भ / Beginning of the world of literature and journalism

सन 1942 में लखनऊ के कालीचरण कॉलेज में अटल जी ने पहली बार अपनी स्वरचित कविता “हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय” का वीर रस में पाठ किया, जिसे सुनकर उनके अध्यापक और श्रोता उनसे बहुत प्रभावित हुए। अटल जी की अद्भुत प्रतिभा और उमड़ते देशप्रेम को देखकर पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जी उन्हें अपने साथ 1946 में लखनऊ ले आये। जहां उनकी काबिलियत के बल-बूते उन्हें हिंदी जगत की श्रेष्ठ राष्ट्रवादी पत्रिका ‘राष्ट्रधर्म’ का पहला संपादक नियुक्त किया गया। जहां अपने प्रभावी काम से उन्होंने कई नामचीन साहित्यकारों से पहचान बना ली। कई चुनौती और विरोध झेलकर वे साहित्य जगह का बड़ा नाम बन गए। इसके बाद 1948 में भारतीय राष्ट्रवादी विचारधारा वाला समाचार पत्र ‘पाञ्चजन्य’ भी प्रकाशित हुआ। जिसके संपादक भी अटल जी ही थे। आज़ादी के बाद कांग्रेस सरकार के आदेश पर राष्ट्रधर्म का कार्यालय सील करवा दिया गया, जिसके बाद अटल जी ने काशी की साप्ताहिक पत्रिका ‘चेतना’ का संपादन शुरू कर दिया। बाद में 1950 में लखनऊ में ‘दैनिक स्वदेश’ का संपादन शुरू किया, पर कुछ समय बाद आर्थिक संकट के चलते इसका संपादन भी उन्हें बन्द करना पड़ा। सन 1954 के बाद अटल जी दिल्ली चले आये, जहां ‘वीर अर्जुन’ समाचार पत्र का संपादक का काम उन्हें मिला, जिसके बाद अटल जी की संपादकीय की चर्चा पूरे दिल्ली में होने लगी। उनकी लेखन शैली का प्रभाव इतना प्रबल था कि उनके लेखनी को राजनेता भी पढ़ना पसन्द करते थे। धीरे-धीरे उनकी पहचान राष्ट्रीय स्तर तक बन गई। यहीं से उनके जीवन का एक नया अध्याय शुरू होने वाला था।

In the year 1942, at Kalicharan College, Lucknow, Atal ji wrote his own poem for the first time. Hindu body-mind, Hindu life, Hindu every vein, my introduction” recited in Veer Rasa, listening to which his teachers and listeners were greatly impressed by him. Seeing Atal ji’s amazing talent and rising patriotism, Pandit Deendayal Upadhyay ji brought him with him to Lucknow in 1946. Where on the strength of his ability, he was appointed the first editor of the Hindi world’s best nationalist magazine ‘Rashtradharma’. Where by his effective work, he made an identity with many renowned writers. Withstanding many challenges and protests, he became a big name in the literary world. After this, in 1948, the newspaper ‘Panchjanya’ with Indian nationalist ideology was also published. Whose editor was also Atal ji. After independence, on the orders of the Congress government, the office of a national religion was sealed, after which Atal ji started editing Kashi’s weekly magazine ‘Chetna’. Later in 1950, he began editing ‘Dainik Swadesh’ in Lucknow, but after some time he had to stop editing it due to a financial crisis. After 1954, Atal ji moved to Delhi, where he got the job of editor of the ‘Veer Arjun’ newspaper, after which Atal ji’s editorials started being discussed all over Delhi. The influence of his writing style was so strong that even politicians liked to read his writings. Gradually, his identity became up to the national level. From here a new chapter of his life was about to begin.

 

राजनीति का प्रारम्भ / Beginning of politics

वैसे तो अटल जी राजनीति में तभी रुचि दिखाने लगे थे, जब 1942 में उनके भाई “भारत छोड़ो आंदोलन” में सक्रिय होने की वजह से जेल गए थे। लेकिन पुख्ता रूप से वे 1951 में आर एस एस के सहयोग से बने संगठन भारतीय जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। पण्डित श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने उन्हें अपने निजी सचिव के रूप में रख लिया। अटल जी उनके भाषणों, सभाओं और दौरों का प्रबंध खुद करते थे। अटल जी भी सभाओं को अपने अनूठे ढंग से संबोधित करते थे, जिससे वे आम जनता के बीच भी लोकप्रिय होने लगे। लोग उन्हें सुनना पसंद करते थे। इन्हीं सब कारणों से अटल जी राजनीति में सक्रिय रहने लगे। भारतीय जन संघ से जुड़ने के बाद वे पत्रकारिता से अलग हो गए। हालांकि अपने लेखन और कविताओं को लेकर वे कभी नही थमें। उन्होंने राजनीति की शुरुआत 1955 से की जिसमें उन्होंने अपना पहला चुनाव लड़ा, पर विजयी नही हो पाए। लेकिन 1957 में उन्होंने बलरामपुर से सांसद पद के लिए चुनाव लड़ा और भारी मतों से जीते। इसके बाद वे 11 बार संसद सदस्य रहे जो कि अपने आप में एक कीर्तिमान है।

By the way, Atal ji started showing interest in politics only when his brother went to jail in 1942 for being active in the “Quit India Movement”. But concretely, he was one of the founding members of the Bharatiya Jana Sangh, an organization formed in 1951 in collaboration with the RSS. Pandit Syama Prasad Mukherjee kept him as his personal secretary. Atal ji himself used to arrange for his speeches, meetings and tours. Atal ji also used to address the meetings in his own unique way, due to which he became popular among the general public as well. People loved listening to him. For all these reasons, Atal ji started being active in politics. After joining Bharatiya Jana Sangh, he separated from journalism. However, he never stopped with his writings and poems. He started politics from 1955 in when he contested his first election, but could not win. But in 1957 he contested for the post of MP from Balrampur and won by a huge margin. After this, he was a Member of Parliament 11 times, which is a record in itself.

1980 में भारतीय जन संघ से अलग होकर “भारतीय जनता पार्टी” की स्थापना हुई, जिसके पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष अटल जी ही थे। शुरुआत के कई वर्ष इस पार्टी को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। 1998 में चुनाव जीतने के 13 महीनों बाद बहुमत न मिलने के कारण 1 वोट से भाजपा की सरकार गिर गई थी, जिसका चौतरफा मज़ाक बनाया गया था। तब अटल जी ने संसद में अपने ऊर्जा पूर्ण भाषण में कहा था कि आज हम 1 वोट से हार रहे हैं और हमारा मजाक बनाया जा रहा है, पर एक ऐसा समय आने वाला है जब हमारी सरकार भारत की पूर्ण बहुमत पाने वाली सबसे सफल पार्टी बनेगी। इसके बाद 1999 में ही हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा फिर से सत्ता में आई और अटल जी ने ही प्रधानमंत्री के रूप में अपना यादगार कार्यकाल पूरा किया। सन 2005 में अटल जी ने अपने राजनैतिक करियर को पूरी तरह से विराम दे दिया। 

In 1980, the “Bharatiya Janata Party” was established after separating from the Bharatiya Jana Sangh, whose first national president was Atal ji. For many years, in the beginning, this party had to face criticism. In 1998, 13 months after winning the elections, the BJP government fell by one vote due to lack of majority, which was made an all-around joke. Then Atal ji said in his energetic speech in the parliament that today we are losing by 1 vote and we are being made fun of, but a time is coming when our government will become the most successful party to get an absolute majority in India. . After this, the BJP again came to power in the Lok Sabha elections held in 1999 and Atalji completed his memorable tenure as the Prime Minister. In 2005, Atal ji completely stopped his political career.

 

भारत के प्रधानमंत्री /The prime minister of India

भारत के प्रधानमंत्री के रूप में वे 3 बार पदासीन हुए। पहली बार 1996 में 11 वीं लोकसभा में वे लखनऊ से सांसद पद पाकर भारत के प्रधान मंत्री बने। लेकिन पर्याप्त साथ और गलत परिस्थितियों के कारण उन्होंने 12 दिन बाद स्वयं त्यागपत्र दे दिया।इसके बाद 12 वीं लोकसभा में 1998 में वे फिर से प्रधानमंत्री बने। पर 13 महीने बाद 1999 में समर्थन वापसी की वजह से गठबंधन से बनी उनकी सरकार टूट गई। इतना होने के बाद भी अटल जी अपने नाम की ही तरह अटल रहे और आखिरकार 13 अक्टूबर 1999 में 13 वीं लोकसभा चुनाव में उन्होंने लगातार दूसरी बार राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की नई गठबंधन सरकार के प्रमुख के रूप में भारत के प्रधानमंत्री का पद ग्रहण किया। पंडित जवाहर लाल नेहरू के बाद वह पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जो लगातार दो बार प्रधानमंत्री बने।

He served as the Prime Minister of India thrice. For the first time in 1996, in the 11th Lok Sabha, he became the Prime Minister of India after getting the post of MP from Lucknow. But due to insufficient support and wrong circumstances, he himself resigned after 12 days. After this, he again became the Prime Minister in 1998 in the 12th Lok Sabha. But after 13 months in 1999, his coalition government broke down due to the withdrawal of support. Despite all this, Atal ji remained adamant about his name, and finally the 13th Lok Sabha election on 13 October 1999, he assumed the office of the Prime Minister of India as the head of the new coalition government of the National Democratic Alliance for the second consecutive term. After Pandit Jawaharlal Nehru, he is the first Prime Minister to become the Prime Minister for two consecutive terms.

अटल जी राजनीति के में पांच दशकों तक लगातार सक्रिय रहे। वह लोकसभा में 9 बार और राज्य सभा में 2 बार चुने गए।

Atal ji was continuously active in politics for five decades. He was elected 9 times in the Lok Sabha and 2 times in the Rajya Sabha.

भारत के प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री, सांसद की विभिन्न महत्वपूर्ण स्थायी समितियों के अध्यक्ष और विपक्ष के नेता के रूप में उन्होंने आजादी के बाद भारत की घरेलू और विदेश नीति को सबल बनाने में एक बहुत बड़ी भूमिका निभाई।

As India’s Prime Minister, External Affairs Minister, Chairman of various important Standing Committees of Parliament, and Leader of the Opposition, he played a major role in shaping India’s domestic and foreign policy after independence.

प्रधानमंत्री काल के अद्भुत कार्य / Amazing works of Prime Minister's era

  • अटल जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए भारत को परमाणु शक्ति सम्पन्न देश बनाया। इसके बाद भारत को विश्व के प्रमुख शक्तिशाली देशों में गिना जाने लगा।
  • Atal ji made India a nuclear power country while being the Prime Minister. After this, India started being counted among the major powerful countries of the world.
  • अटल जी के सैन्य शक्ति में प्रबलता लाने के लिए बहुत से कार्य किये, जिसे पाकिस्तान के साथ कारगिल युद्ध में विजय का भी एक कारण माना जाता है।
  • Atal ji did many things to strengthen the military power, which is also considered a reason for the victory in the Kargil war with Pakistan.
  • प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत गांव-गांव तक तेजी से सड़क निर्माण हुए।
  • Under the Pradhan Mantri Gram Sadak Yojana, roads were constructed rapidly from village to village.
  • भारत के चारों कोनों को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए अटल जी के नेतृत्व में स्वर्णिम चतुर्भुज योजना लाई गई। इसमें चार महानगरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई को सड़क मार्ग से जोड़ा गया।
  • The Golden Quadrilateral scheme was brought under the leadership of Atal ji to connect the four corners of India by road. In this, the four metropolitan cities of Delhi, Mumbai, Kolkata, and Chennai were connected by road.
  • पाकिस्तान के साथ संबंधो को सुधारने के लिए अटल जी ने बहुत प्रयास किये। उन्होंने सदा-ए-सरहद नाम से दिल्ली लाहौर बस सेवा शुरू करवाई। पर कारगिल युद्ध की वजह से सारे प्रयास विफल रहे।
  • Atal ji tried a lot to improve relations with Pakistan. He started the Delhi-Lahore bus service under the name Sada-e-Sarhad. But all efforts failed due to the Kargil war.
  • 100 वर्ष पुराने कावेरी जल विवाद को सुलझाने का श्रेय अटल जी को ही जाता है।
  • The credit goes to Atal ji for solving the 100 years old the Cavery water dispute.
  • अटल जी ने अपने कार्यकाल में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार समिति, आर्थिक सलाहकार समिति, व्यापार व उद्योग समिति का निर्माण किया।
  • During his tenure, Atal ji created National Security Advisory Committee, Economic Advisory Committee, and Trade, and Industry Committee.
  • विद्युतीकरण कार्य को तेज करने के लिए उन्होंने केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग का गठन किया।
  • To speed up the electrification work, he formed the Central Electricity Regulatory Commission.
  • अटल जी ने राष्ट्रीय राजमार्गों और उड्डयन विभाग में कई विकास किये। 
  • Atal ji made many developments in the National Highways and Aviation Department.
  • भारत के ग्रामीण क्षेत्रों के संवर्धन के लिए उन्होंने ग्रामीण रोजगार सृजन योजना की शुरुआत की, वहीं उड़ीसा के अति निर्धन लोगों के लिए सात सूत्रीय निर्धनता उन्मूलन कार्यक्रम शुरू किया।
  • For the promotion of India’s rural areas, he started the Rural Employment Generation Scheme, while he started a seven-point poverty alleviation program for the very poor people of Odisha.
  • परिवर्तन के दौर को ध्यान में रखकर अटल जी ने सॉफ्टवेयर डवलपमेंट के लिए सूचना और प्रौद्योगिकी कार्यदल स्थापित किया।
  • Keeping in mind the era of change, Atal ji established the Information and Technology Task Force for software development.

अटल जी का व्यक्तित्व / Atal ji's personality

अटल जी का व्यक्तित्व सर्वप्रिय था। अपने जीवन में निर्मल स्वभाव के कारण उन्हें हर क्षेत्र के लोग पसंद  करते थे। वे भारतीय लोकतंत्र के एक ऐसे नेता के रूप में उभरे जिन्होंने विश्व के प्रति उदारवादी सोच और लोकतांत्रिक आदर्शों के प्रति प्रतिबद्धता को महत्व दिया। वे महिलाओं के सशक्तिकरण और सामाजिक समानता के समर्थक थे। पण्डित जी का व्यक्तित्व राष्ट्रप्रेम को समर्पित था। वे भारत को सभी राष्ट्रों के बीच एक दूरदर्शी, विकसित, मजबूत और समृद्ध राष्ट्र के रूप में आगे बढ़ते हुए देखना चाहते थे। वे जनता की बातों को ध्यान से सुनते थे और उनकी आकाँक्षाओं को पूरा करने का प्रयास करते थे। उनके कार्य राष्ट्र के प्रति उनके समर्पण को दिखाते हैं।

Atal ji’s personality was everyone’s favorite. Because of his pure nature in life, he was liked by people from all walks of life. He emerged as a leader of Indian democracy who gave importance to liberal thinking towards the world and commitment to democratic ideals. He was a supporter of women’s empowerment and social equality. Pandit ji’s personality was devoted to patriotism. He wanted to see India moving forward as a visionary, developed, strong, and prosperous nation among all nations. He used to listen carefully to the public and tried to fulfill their aspirations. His actions show his dedication to the nation.

निजी जीवन में उन्हें किताबें पढ़ना, लिखना, भोजन पकाना और संगीत सुनना बहुत पसंद था। भोजन में उन्हें खिचड़ी बहुत पसंद थी। अपने पूरे जीवन में उन्होंने कई कवितायेँ भी लिखी जिसे समीक्षकों द्वारा सराहा गया। सादा जीवन जीने की चाह रखने वाले अटल जी संसद के अपने पहले भाषण में भारतीय वेशभूषा धोती, कुर्ता और कोटी पहनकर ही संसद भवन गये थे। हिंदी भाषा के प्रति उनके प्रेम से कोई अनजान नही है। अपना पहला भाषण उन्होंने शुद्ध हिंदी में ही दिया। शुरुआत में उनका बहुत विरोध किया गया पर अपनी अटल ज़िद के आगे किसी की न चली। और फिर वो समय भी आया जब उनके हिंदी भाषण को बिना शोर गुल के शांति के साथ विरोधी दल भी सुनने लगा। 

In his personal life, he loved reading books, writing, cooking, and listening to music. He loved khichdi in food. Throughout his life, he also wrote many poems which were appreciated by critics. Atal ji, who wanted to live a simple life, went to the Parliament House in his first speech in the Parliament wearing the Indian costume Dhoti, Kurta, and Koti. No one is unaware of his love for the Hindi language. He gave his first speech in pure Hindi only. In the beginning, he was opposed a lot, but no one could stand before his unwavering stubbornness. And then the time also came when the opposition party also started listening to his Hindi speech peacefully without making any noise.

अटल जी की सम्मान श्रृंखला / Atal ji's honor series

अपने नाम की तरह अटलजी एक प्रतिष्ठित राष्ट्रीय नेता, प्रखर राजनीतिज्ञ, नि:स्वार्थ सामाजिक कार्यकर्ता, सशक्त वक्ता, कवि, साहित्यकार, पत्रकार और बहुआयामी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति थे। वे सबसे लंबे समय तक सांसद रहने वाले इकलौते व्यक्ति हैं। स्वाभाविक है कि ऐसे महान व्यक्ति की सम्मान श्रृंखला भी बड़ी होगी। यहां उनके कुछ प्रमुख पुरुस्कारों की उपलब्धता इस प्रकार है।

Like his name, Atalji was a distinguished national leader, keen politician, selfless social worker, forceful orator, poet, litterateur, journalist, and multifaceted personality. He is the only person to have been a Member of Parliament for the longest time. It is natural that the honor chain of such a great person would also be huge. Here is the availability of some of his major awards.

  • अटल जी को साल 2015 में उनके देशसेवा से भरे निस्वार्थ जीवन के सम्मान में और राजनैतिक जीवन के पचास वर्ष पूर्ण होने पर भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किया। स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से उनके निवास पर ही उन्हें सम्मानित किया गया।
  • In the year 2015, Atal ji was given India’s highest civilian honor Bharat Ratna in honor of his selfless life full of country service and completion of fifty years of political life. Due to poor health, he was honored at his residence itself.
  • इसके पूर्व भारत के प्रति उनके निस्वार्थ समर्पण और देश और समाज की सेवा करने के लिए 1992 में भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण दिया गया।
  • prior to 1992, India’s second highest civilian honor Padma Vibhushan was given to him for his selfless dedication to India and service to the country and society.
  • उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान ने अटल जी को वर्ष 1992 में “हिंदी गौरव” से सम्मानित किया। इसमें पुरुस्कार की राशि को उन्होंने तुरंत संस्थान की उन्नति के लिए भेंट कर दिया।
  • Uttar Pradesh Hindi Sansthan honored Atal ji with “Hindi Gaurav” in the year 1992. In this, he immediately presented the prize money for the progress of the institute.
  • 1993 में कानपुर विश्वविद्यालय ने उन्हें डी लिट् की उपाधि से सम्मानित किया।
  • In 1993, Kanpur University awarded him the degree of D.Litt.
  • 1994 में उन्हें भारत का ‘सर्वश्रेष्ठ सांसद’ चुना गया। 
  • In 1994, he was voted the ‘Best Parliamentarian’ of India.
  • 1994 में ही उन्हें लोकमान्य तिलक पुरुस्कार से सम्मानित किया गया।
  • He was awarded the Lokmanya Tilak Award in 1994.
  • 1994 में उन्हें भारत रत्न पण्डित गोविंद वल्लभ पंत पुरुस्कार से सम्मानित किया गया।
  • In 1994, he was awarded the Bharat Ratna Pandit Govind Vallabh Pant Award.
  • 2015 में मध्यप्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय ने उन्हें डी लिट् की उपाधि से सम्मानित किया गया।
  • In 2015, Madhya Pradesh Bhoj Open University awarded him the degree of D.Litt.
  • बांग्लादेश सरकार द्वारा दिया जाने वाला “फ्रेंड्स ऑफ बांग्लादेश लिबरेशन वार अवार्ड” से अटल जी को साल 2015 में सम्मानित किया गया।
  • Atal ji was honored in the year 2015 with the “Friends of Bangladesh Liberation War Award” given by the Government of Bangladesh.
  • वे पहले ऐसे विदेश रहे जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में भाषण देकर हिंदी संस्कृति को विश्व में पहचान दिलाई।
  • He was the first foreigner who gave a speech in Hindi at the United Nations and introduced Hindi culture to the world.

भारत भूमि के लिए सम्पूर्ण जीवन जीने वाले महा पुरुष भारत रत्न पंडित अटल बिहारी वाजपेयी जी ने भारत को अपने शब्दों की दुनिया में इस तरह से व्यक्त किया है कि पाठक अपनी देशप्रेम की भावनाओ को उमड़ने से नही रोक पाता। वे भारत को एक जीता-जागता राष्ट्रपुरुष कहते हैं। 

Bharat Ratna Pandit Atal Bihari Vajpayee, the great man who lived his entire life for the land of India, has expressed India in the world of his words in such a way that the reader cannot stop his feelings of patriotism from rising. He calls India a living nation.

अटल जी जैसे व्यक्तित्व सदियों में एक बार ही होते हैं, जो अपने जीवन को प्राथमिकता न देकर देश सेवा के लिए सर्वस्व समर्पित कर देते हैं। आने वाली पीढ़ियों के लिए वे सदैव प्रेरणा पुरुष रहेंगे। 

उनका लिखा लेख “जीता जागता राष्ट्रपुरुष” उनके राष्ट्रप्रेम का जीता जागता उदाहरण है।

Personalities like Atal ji happen only once in a century, who do not give priority to their lives and dedicate everything to the service of the country. He will always be an inspiration for generations to come.

His article “Jita Jagata Rashtrapurush” is a living example of his patriotism.

“भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं, जीता-जागता राष्ट्रपुरुष है। हिमालय इसका मस्तक है, गौरी शंकर शिखा है। कश्मीर किरीट है, पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं। विन्ध्याचल कटि है, नर्मदा करधनी है। पूर्वी और पश्चिमी घाट, दो विशाल जंघाएँ हैं। कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है। पावस के काले-काले मेघ इसके कुंतल केश हैं। चाँद और सूरज इसकी आरती उतारते हैं। यह वन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है। यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है। इसका कंकर-कंकर शंकर है, इसका बिंदु-बिंदु गंगाजल है। हम जिएँगे तो इसके लिए, मरेंगे तो इसके लिए।”

-पं. अटल बिहारी वाजपेयी

About The Author -

Astro Arun Pandit is the best astrologer in India in the field of Astrology, Numerology & Palmistry. He has been helping people solve their life problems related to government jobs, health, marriage, love, career, and business for 48+ years.

वट सावित्री व्रत 2024

वट सावित्री व्रत: महत्व, पूजा विधि, और पौराणिक कथा इस साल वट सावित्री व्रत 6 जून, गुरुवार को मनाया जाएगा। इसे सावित्री अमावस्या या वट पूर्णिमा भी कहा जाता है।

Read More »

राहु गोचर 2024: राहु ने बदली चाल, इन राशियों को अगले 60 दिन रहना होगा सावधान !

राहु गोचर 2024| Rahu Gochar 2024: ज्योतिष में ग्रहों का महत्त्व जगजाहिर है। ज्योतिष में सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, देवगुरु बृहस्पति, शुक्र व शनि को प्रत्यक्ष जबकि राहु-केतु छाया या

Read More »

गुरु चांडाल योग कितना खतरनाक ? जानें क्या है इस दोष से बचने के उपाय !

गुरु चांडाल योग ज्योतिष में एक विवादास्पद अवधारणा है। इसे अक्सर अशुभ माना जाता है। हालांकि, ज्योतिष सिर्फ भविष्यवाणी नहीं है, बल्कि ग्रहों की ऊर्जा को समझने का एक उपकरण

Read More »

Know How June Born People are | Personalities

अपनी Birthday Report से जानें क्‍या कहती है आपकी जन्‍म तारीख? Know How Are June Born People| जानिये कैसे होते हैं जून में जन्‍में लोग? | June 1st to June

Read More »

अक्षय तृतीया 2024

अक्षय तृतीया 2024: हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का पर्व बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे प्रतिवर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है।

Read More »